एक ही विचारधारा होने के बावजूद प्रवीण तोगड़िया बीजेपी और संघ के खिलाफ क्यों जा रहे हैं

Share:
pravin togadiya vhp bjp narendra modi gujrat chunav

एक ही विचारधारा होने के बावजूद प्रवीण तोगड़िया बीजेपी और संघ के खिलाफ क्यों जा रहे हैं

प्रवीण तोगड़िया का नाम सुनते ही एक ऐसा नाम एक ऐसा व्यक्तित्व सामने आता है जिससे हमे लगता है की हाँ अभी भी कट्टर हिन्दू हैं, प्रवीण तोगड़िया वीएचपी के नेता है , आपकी जानकारी के लिए बता दें की वीएचपी आरएसएस और बीजेपी तीनों की विचारधारा एक ही है लेकिन 2014 के बाद से जब से केंद्र में बीजेपी सरकार आई है तब से ही प्रवीण तोगड़िया बीजेपी और आरएसएस से कुछ उखड़े उखड़े नजर आने लगे थे, कुछ न्यूज़ चैनलों ने ये भी कहा था की शायद ये वीएचपी नेता कैबिनेट में शामिल होना चाहते थे लेकिन ऐसा नहीं हो पाया ,

प्रवीण के सुरों में बीजेपी और आरएसएस के खिलाफ आवाज निकलने लगी थी लेकिन ये आवाज गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 में और तेजी से निकाल कर सामने आई । और प्रवीण तोगड़िया ने बीजेपी के खिलाफ 48 कैंडीडेट खड़े कर दिये जिनमे अधिकतर कांग्रेस की सीटों पर लड़ रहे थे, प्रवीण ने बीजेपी पर निशाना साधते हुये कहा था की कांग्रेस की सरकार में उन्होने 300 रुपये में डाक्ट्रेट की डिग्री ले ली थी क्या अब ऐसा संभव है, आने वाले 2019 के चुनावो में बीजेपी को जनता सबक सिखाएगी ,

जब प्रवीण तोगड़िया मोदी और आरएसएस की छवि खराब करने में नाकाम रहे तब उन्होने नया प्लान बनाया और ज़ेड प्लस सिक्योरिटी होने के बाद भी अपने अपहरण का झूठा नाटक रचा और फिर बीजेपी और आरएसएस पर सीधा निशाना साधा यंहा तक की मीडिया के सामने घड़ियाली आँसू तक बहाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। आरएसएस जो की सिर्फ हिन्दुत्व के लिए काम करता है उस पर भी प्रवीण तोगड़िया ने उंगली उठा दी । प्रवीण तोगड़िया जैसों को जल्द से जल्द विश्व हिन्दू परिषद जैसे संगठन से बाहर किया जाना चाहिए, क्योंकि एक गंदी मछली पूरे तालाब को गंदा कर देती है जय हिन्द जय भारत जय श्रीराम

No comments