दुर्भाग्य से तिरंगे को लहराने वाला मरा है, अगर यंही तिरंगे को जलाने वाला मरा होता तो टीवी स्टुडियो में कुछ पत्रकार अब तक मैयत मना रहे होते

Share:
KASGANJ TIRANGA CHANDAN GUPTA MURDER BOBBY DEOL

दुर्भाग्य से तिरंगे को लहराने वाला मरा है, अगर यंही तिरंगे को जलाने वाला मरा होता तो टीवी स्टुडियो में कुछ पत्रकार अब तक मैयत मना रहे होते

सत्य बात है और सत्य बात हमेशा ही कड़वी होती है कासगंज में तिरंगा फहराने वाला हिन्दू देशभक्त चन्दन गुप्ता मरा है इसलिए देश की 85% मीडिया और नेता अभी भी सोये हुये हैं अगर यंही देशद्रोही कोई दलित या मुसलमान तिरंगा जलाने वाला मरा होता तो सेक्युलर मीडिया छाती पीट पीट कर मातम माना रही होती, और वंही टीवी स्टुडियो में मैयत का माहौल बना दिया गया होता , देश का चाटुकार पत्रकार असहनशीलता पर बड़े बड़े सेमिनार कर रहा होता देश का लोकतन्त्र खतरे में पड़ गया होता ।

जो मीडिया कासगंज को 3 दिन में भूल गयी है वही मीडिया अकलाख के मरने पर कई हफ्तों तक वैनिटी वैन लिए दादरी में पड़ी रही थी, उस समय उत्तर प्रदेश में अखिलेश की सरकार थी, और सबने मिलकर केंद्र सरकार को घेरा था कोई ये बोलने की हिम्मत नहीं कर रहा था की ये ला अंड ऑर्डर का मामला है , लेकिन इस समय सब के सब योगी सरकार पर निशाना साध रहे थे , जो मुल्ला अखलाख मरा था तो उसे 1 करोड़ रुपया और 4 फ्लैट दिये गए थे लेकिन चन्दन गुप्ता की मौत पर किसी नेता ने उनके घर वालों से बात तक नहीं की है। हिन्दुवों अभी भी वक्त है समझ जाओ, जय हिन्द जय श्री राम

1 comment: