शम्भूनाथ ने जो किया है वो एक जेहादी कौम से त्रस्त होकर मायूसी में उठाया हुआ कदम है

Share:


शम्भूनाथ ने जो किया अगर उसे मानवता के चश्मे से देखा जाये तो बहुत ही घिनौना कृत्य है लेकिन अगर उसे उसकी मजबूरीयों और परिस्थितियों के चश्मे से देखा जाये तो शम्भूनाथ ने कोई भी गलत काम नहीं है क्योंकि जब कोई जिहादी आपकी बहन और बेटियों की इज्जत से खिलवाड़ कर उसकी जिंदगी बर्बाद करने की कोशिश करेगा तब तक आप कानून पर भरोषा करके बैठ सकते हैं लेकिन अगर आपके साथ ऐसी घटना घटित हो जाने के बाद भी कानून हाथ पर हाथ धरे बैठा रहे तो आपको अपनी लड़ाई खुद लड्नी पड़ेगी । और यही काम शंभू ने किया ।

इसके बाद भी जो इस तवे पर अपनी राजनीतिक रोटियाँ सेंकने के चक्कर में हिन्दू आतंकवाद की बात कर रहे हैं उन्हे शर्म से डूब कर मर जाना चाहिए अगर शंभू अपराधी होता अगर शंभू आतंकवादी होता तो वो ये काम चुपचाप भी कर सकता था और किसी को कानों कान खबर नहीं लगती लेकिन उसने अपने धर्म रक्षा और परिवार की रक्षा हेतु ये काम किया और विडियो रेकॉर्ड कर सोशल मीडिया पर पब्लिश की और खुद जाके सरेंडर किया। अब आप खुद ही अपने ठंडे दिमाग से सोचे की कौन आतंकवादी है और कौन अपराधी है ।

जो 10 - 15 प्रतिशत हिन्दू मानवता का पाठ पढ़ाकर शंभू को जघन्य अपराधी करार दे रहे हैं उन्हे आज मैं कहना चाहता हूँ की आप तब भी चुप थे जब कश्मीर से पंडित भगाये गए थे आप तब भी चुप थे जब बंगाल कैराना और केरल से हिन्दू भगाये गए थे और आप तब भी चुप हैं जब ये मुल्ले लव जिहाद के नाम पर हिन्दू लड़कियों को फसातें हैं और उनसे निकाह कर उन्हे मुस्लिम धर्म अपनाने के लिए प्रताड़ित करते हैं और फिर उन्हे उन्हे बांग्लादेश, पाकिस्तान ले जाकर रंडीबाजी के गंदे धंधे में धकेल देते हैं।

और आप तब भी चुप रहना जब आपकी बहन और बेटियों को ये फंसाकर ले जाएँगे और उन्हे बद से भी बदतर जिंदगी जीने के लिए मजबूर करेंगे। तुम बस चुप रहना और अपनों पर ही उंगली उठाते रहना लेकिन शंभू जैसे चुप नहीं बैठेंगे आज एक शंभू जागा है कल हजारों लाखों जागेंगे क्योंकि जब जब धरती माँ पर अत्याचार का बोझ बढ़ा है तब तब उसका बोझ कम करने के लिए उसने अपने बेटों को पैदा किया है मैं गर्व से कहता हूँ की शंभू भारत माता धरती माँ का बेटा है जय माँ भवानी

1 comment:

  1. […] पत्रकारों से बात करते हुये बताया की राजस्थान की जनता ने उपचुनावों में कांग्रेस को वोट दिया […]

    ReplyDelete