कश्मीर से धारा 370 हटाने की चुपचाप हुई शुरुआत मोदी ने अपने दिमागी चाल से उड़ाई महबूबा मुफ़्ती की नींद

बीजेपी ने जब पीडीपी के साथ जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाई थी तो लोगों के साथ विपक्ष ने इस पर ऊँगली उठाई थी लेकिन जो लोग समझदार थे वो जानते थे मोदी का ये फैसला आगे जाकर क्या गुल खिलाने वाला है और अभी दो दिन पहले मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती की तिलमिलाहट सबने देख ही ली है !

जैसे-जैसे राज्यों और राज्यसभा में भाजपा का प्रभाव बढ़ रहा है बैसे ही भाजपा अपने राष्ट्रवादी एजेंडे को आगे बढाती जा रही है.अब जम्मू & कश्मीर से धारा 370 को हटाने की तैयारी शुरू हो चुकी है. इसके लिए सबसे पहले इसके अनुच्छेद 35(A) को बदलने की तैयारी हो रही है जो समस्या की मुख्य बजह है.बड़े तरीके से सारी गेम चली हुई है इस समय कश्मीर में एक गैर सरकारी संगठन से किस तरह इस अनुच्छेद 35(A) के खिलाफ याचिका दर्ज करवाई गयी और अब किस तरह मोदी सरकार इस पर जवाब देगी,बहुत कुछ दिखने वाला है आगे.
केंद्र के इस कदम से तिलमिलाई हुई महबूबा ने कहा है कि- यहां की लडाई हमने लडी है हमारे लोग मारे गये हैं, हुरियत ने भी लडी है उनके लोग और हमारे लोग भी मारे गये हैं. अगर हमारे अधिकारों को खतम करने की कोशिश की गई, तो मै ये कहना चाहती हूं कि – तिरंगा झंडा उठाने के लिये 4 कन्धे भी नही मिलेंगे.

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि जो हम बता रहे हैं आपको वो मीडिया कभी नहीं बताने वाली मुख्यमंत्री महबूबा का यह बयान यह बताने के लिए पर्याप्त है कि – कार्यवाही किस हद तक चल रही है. महबूबा की स्थिति इस समय सांप छछुंदर वाली हो गई है. भाजपा के साथ गठबंधन करने के कारण उनकी बात को मानना मजबूरी है और अगर नहीं मानते हैं तो उनकी सरकार जायेगी और कुछ भी नहीं कर पाएंगी.बीजेपी और आरएसएस का शुरू से ही राष्ट्रवादी मुद्दा रहा है धारा 370 हटाने का लेकिन बाकि सब पार्टियाँ इस हटाने के खिलाफ हैं क्योंकि उन्हें देश प्रेम नहीं है.

अगर अब महबूबा मुफ़्ती खुलकर इसका विरोध करती है तो सरकार गिरना तय है जबकि सरकार गिरने की स्थिति में जम्मू & कश्मीर में राष्ट्रध्यक्ष शासन लगाकर केंद्र का वहां पर पूरी तरह से नियंत्रण हो जाएगा. उस समय भाजपा को अपना एजेंडा लागू करने से कोई रोक भी नहीं पायेगा. भाजपा केवल इतना चाहती है कि – गठबंधन तोड़ने का इल्जाम उसपर नहीं बल्कि पीडीपी पर आये.

मुझे पूर्ण विशवास है कि – गुजरात, उड़ीसा, हिमाचल, कर्नाटक चुनाव के सकारात्मक चुनाव परिणाम आने के बाद कश्मीर में और तेजी आयेगी. तब तक केंद्र अपनी तैयारी कर रहा है. महबुबा की छटपटाहट से तो यही पता चलता है कि – उनको भी समझ आने लगा है कि -अब क्या होने वाला है !

धारा 370  क्या है जरूर जानिए इस लेख को पूरा और ध्यान से पढ़िये और अगर सही लगे तो शेयर जरूर करिए जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता होती है । जम्मू-कश्मीर का राष्ट्रध्वज अलग होता है जम्मू - कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 वर्षों का होता है जबकी भारत के अन्य राज्यों की विधानसभाओं का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है । जम्मू-कश्मीर के अन्दर भारत के राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अपराध नहीं होता है ।

भारत के उच्चतम न्यायलय के आदेश जम्मू - कश्मीर के अन्दर मान्य नहीं होते हैं भारत की संसद को जम्मू - कश्मीर के सम्बन्ध में अत्यंत सीमित क्षेत्र में कानून बना सकती है जम्मू कश्मीर की कोई महिला यदि भारत के किसी अन्य राज्य के व्यक्ति से विवाह कर ले तो उस महिला की नागरिकता समाप्त हो जायेगी ।

इसके विपरीत यदि वह पकिस्तान के किसी व्यक्ति से विवाह कर ले तो उसे भी जम्मू - कश्मीर की नागरिकता मिल जायेगी । और धारा 370 की वजह से कश्मीर में RTI लागु नहीं है । RTE लागू नहीं है । CAG लागू नहीं होता भारत का कोई भी कानून लागु नहीं होता । कश्मीर में महिलाओ पर शरियत कानून लागु है । कश्मीर में पंचायत के अधिकार नहीं । कश्मीर में चपरासी को 2500 ही मिलते है. कश्मीर में अल्पसंख्यको [ हिन्दू- सिख ] को 16 % आरक्षण नहीं मिलता ।

धारा 370 की वजह से कश्मीर में बाहर के लोग जमीन नहीं खरीद सकते है । धारा 370 की वजह से ही पाकिस्तानियो को भी भारतीय नागरीकता मिल जाता है । इसके लिए पाकिस्तानियो को केवल किसी कश्मीरी लड़की से शादी करनी होती है । अच्छी शुरुवात है कम से कम 370 हटाने की दिशा में एक कदम आगे की ओर मोदी जी को धन्यवाद जो उन्होनें धारा 370 का मुद्दा उठाया ।

अब यदि कोई सेकुलर इन तथ्यों के विषय में कुछ कहना चाहे तो स्वागत हैं...!!! 370 धारा हटाना ही है.... इसलिए मेसेज को ज्यादा से ज्यादा फैलाओ कश्मीर में आप तिरंगा नहीं फहरा सकते, कन्याकुमारी में रिक्शे के पीछे आप जय श्री राम नहीं लिख सकते, हैदराबाद में मन्दिर की आप घंटी नहीं बजा सकते, कलकत्ता में आप अपने घर के दरवाजे पर

बजरंगबली की मूर्ति नहीं लगा सकते. फिर कैसे कहूं की कश्मीर से कन्याकुमारी तक भारत एक है ?? 65 सालो के इतिहास में पहली बार जिसने खुल के 370 का विरोध किया हे तो उसका साथ दीजिये ।

39 भारतीयों की हत्या पर इनमें से किसी ने भी ISIS और इस्लामिक आतंक के खिलाफ न तो मुहं खोला और ना ही नाम बदलने की धम्की दी


शायद आप सोच रहे होंगे की ये क्या हो रहा है या मैंने इन नौटंकिबाजों की फोटो क्यों लगाई है तो आपको बता दें  की इनमे से सभी को आप जानते होंगे और शायद इनमे से कुछ आपके आदर्श भी हो समय समय पर 2014 के बाद जब भी इन सुवरों को मौका मिला है हिन्दू आतंकवाद की बात की है
भगवा आतंकवाद की बात काही और बताया आज भारत देश असहिष्णु हो गया है भारत में इन्हे खतरा महसूस होने लगा है दर लगने लगा है, ये अपने बच्चों के फ्युचर के बारे में सोचकर डरते हैं, गौहत्यारा अखलख की मौत को पूरे हिन्दू समाज को इनहोने कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया था लेकिन
लेकिन आज इराक में 50 बांग्लादेशी मुसलमानों को छोड़ दिया और 39 भारतीय लोगो को ISIS के मुसलमानों ने गोली मार दी उनकी निर्मम हत्या इसलिए कर दी गयी क्योंकि वो हिंदुस्तान के हिन्दू थे, लेकिन इन दोगलों में से किसी एक ने भी नहीं बोला किसी ने अगर कुछ कहा भी तो यंहा की सरकार को ही दोषी ठहराया
लेकिन किसी ने भी इस्लामिक आतंकवाद और ISIS के खिलाफ एक भी शब्द नहीं कहा चलिये खिलाफत की बात तो अलग है एक बार भी इनहोने निंदा तक नहीं की, मारे गए भारतियों की आत्मा की शांति के लिए दुआ तक नहीं की

फिर भी हममे बहुत से लोग इनको भगवान मानते हैं शर्म करो आँखें खोलो और ध्यान से देखो बाकी समझदार हो आप लोग, एक थप्पड़ के बदले अनुराग कश्यप ने हिन्दू आतंकवाद की बात कह दी, सुशांत सिंह राजपूत जिसने अपना सरनेम बादल देने की धम्की दे डाली

असली दल्ले और वेश्या तो कन्हैया और शेहला राशिद जैसे लोग हैं - सतेन्द्र मिश्रा


पिछले दिनों मुंबई में इंडिया टुडे का कॉन्क्लेव प्रोग्राम हुआ था जिसमें देश के बड़े बड़े दिग्गज नेता और अभिनेता शामिल हुये थे इन सबके साथ में जेएनयू के कुछ विवादित छात्र भी उपस्थित थे वंही पर शेहला राशिद और कन्हैया कुमार जैसे लोग भी मौजूद थे जैसा की अन्य प्रोग्राम में होता है वैसे ही इस प्रोग्राम में भी इन लोगो से होस्ट ने सवाल किए कुछ के जवाब इन लोगों ने दिये कुछ के नहीं दिये

और कन्हैया कुमार ने सवाल पूछने पर होस्ट और पैनल के अन्य मेंबर्स के साथ गाली गलौज तक किया , ये उमर खालिद की गैंग का आदमी है जिसने उस उमर खालिद के साथ में भारत तेरे टुकड़े होंगे जैसे देशविरोधी नारे लगाए थे , ये लोग जेएनयू हमारे और आप लोगों के द्वारा दिये गए टैक्स की भीख पर पलते हैं लेकिन इनके इरादे देखो ये भारत के टुकड़े करवाएँगे।

शेहला राशिद इसे आप वैशया भी कह सकते हैं इसने कहा की मरते दम तक आरएसएस मुक्त भारत कर दूंगी , ये भी उमर खालिद और जिग्नेश मेवानी गैंग की दलाल है इन्हे देख कर तो ऐसा ही लगता है की इनके लिए वैशया दोगले दल्ले जैसे शब्द भी बेकार है,

आज देश की युवा पीढ़ी को अपना हीरो बदलने की आवश्यकता है, भगत सिंह, आजाद जैसे लोगोंको अपना आदर्श बनाए - पं संतेंद्र मिश्रा


बजरंग दल के कट्टर हिंदूवादी नेता कुछ वर्ष पूर्व ओवैसी का मुह काला करने से सुर्खियों में आये थे अभी अभी उन्होंने एक बड़ा बयान दिया है जिसमे गाय काटने वाले का सर काटने की बात कही और बताया, जब तक इस हिन्दूराष्ट्र के युवा चंद्र शेखर आजाद, सरदार भगत सिंह और पूरी दुनिया में भारत देश को खोया हुआ सम्मान दिलाने वाले नरेंद्र मोदी जी जैसे क्रान्तिकारियों को अपना आदर्श मानकर आगे नही बढ़ेंगे तब तक भारत माँ (हिन्दूराष्ट्र) को संविधान के रखवालों (भ्रष्टाचारी/घोटाले/रिश्वतखोरी/लूट/काले अंग्रेजों) से पूर्ण मुक्ति नही मिलेगी।
क्योंकि सत्य यही है कि जब भी युवा ने हथियार उठाया है तब तब अन्याय और आतंक को मिटाया है। इसलिए हमें काले अंग्रेजों द्वारा 1950 में स्थापित की गई इस भ्रष्ट प्रणाली को बदलकर भारत को पुनः अखंड एवम शक्तिशाली हिन्दूराष्ट्र बनाना है



"याद रहे हिन्दू शेरो इतिहास में नाम उन्ही का दर्ज होता है जो अपने वर्तमान के लिए अपने भविष्य का चिंतन नहीं करते, आज के वर्तमान का इतिहास यही कहता है कि हिन्दुओं की हिन्दूराष्ट्र की स्थापना अधूरी रह गयी है इस लड़ाई को पूरा करना शेष है, इसलिए धर्म कहता है कि युद्ध के समय सभी क्रिया-प्रतिक्रिया सदैव न्यायसंगत होती है, अतः शत्रु से मित्र का आचरण त्याग कर सिर्फ धर्मयुद्ध कर, अन्यथा भविष्य के इतिहास से भी मिटा दिया जाएगा"
जेहादियो के खिलाफ धर्मयुद्ध होगा वही हिंदूओ का भविष्य तय करेगा, हिंदूओ को आगे आकर सेनापति के रुप मे खुद लडना होगा, क्योंकि जो ताकते भगवा आतंकवाद और हिन्दू आतंकवाद की बात करते थे उन्हे जड़ से मिटाना जरूरी हो गया है, 70 सालों से इनहोने देश को दीमक की तरह खाया है , अभी भी इनकी जड़े हिंदुस्तान में हैं, हिन्दुवों को कलंकित करने का जो दुस्साहस इन्होने किया है वो क्षमा प्रार्थनीय नहीं है , जय हिन्दू राष्ट्र

दूसरे राज्यों के लोग तुम्हें ऐसे ही कुत्ते की तरह नहीं दुतकारते हैं - पंडित सतेन्द्र मिश्रा

वैसे आप सभी लोगो को अभी तक पता चलचुका होगा लेकिन जिन लोगों को नहीं पता उन्हे बता दें की बिहार में अररिया सीट पर लोकसभा उपचुनाव हुआ है और वंहा से आरजेडी का मुस्लिम प्रत्याशी जीता है और जीत के बाद ही पाकिस्तान जिंदाबाद और भारत तेरे टुकड़े होंगे के नारे बहुत जोरों शोरों से लगे।

इस विडियो को सभी बड़े मीडिया हाउस ने नेशनल टीवी पर दिखाया भी दो मुख्य मुस्लिम आरोपियों की गिरफ्तारी भी हुई है जबकि बाकी के सभी मुस्लिम आरोपी अभी भी फरार हैं, इस विडियो की पुष्टि अररिया के डीएम ने भी की है और उन्होने प्रैस में कहा है की ये विडियो सही है और वंहा के मुस्लिम प्रत्याशी के जीतने के बाद मुस्लिमों ने पाकिस्तान जिंदाबाद हिंदुस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए हैं।

अगर आप बिहार से हैं तो शायद आप हमे गालियां भी दें लेकिन हम इस सच्चाई से आपको रूबरू जरूर करवाएँगे, आप एक बार उन सभी चुनावों के बारे में सोचिए जो बीजेपी ने जीते हैं वंहा पर नारे लगते हैं भारत माता की जय हिंदुस्तान जिंदाबाद वंदे मातरम जबकि इन जैसे दलिद्र पारियों की जीत पर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगते हैं भारत मुर्दाबाद के नारे लगते हैं,

इन जैसी पार्टियों ने बिहार और उत्तर प्रदेश पर न जाने कितने सालों तक राज किया अपने परिवार को बनाया जमीने खरीदी विदेशो में रुपया जमा करवाया महंगी महंगी गाडियाँ खरीदी दूसरे राज्यों में इनकी होटलें माल शॉपिंग कॉम्प्लेक्स चलते हैं जबकि तुम बिहारियों को 7000 की नौकरी करने के लिए गुजरात, मुंबई और मध्य प्रदेश जैसी जगहों पर जाना पड़ता हैं,

क्या गुजरात और महाराष्ट्र जैसे राज्य जो आपको रोजगार देते हैं वो 1947 से पहले आजाद हुये थे क्या नहीं लेकिन आपने ऐसे नेता को सत्ता दी जिसने आपका शोषण किया आपके बच्चो का किया आपकी आने वाली पीढ़ी का भी शोषण यही या इनके बच्चे करेंगे अभी भी वक्त है जागो जातिवाद से ऊपर उठो नहीं तो लोग तुम्हें भीख भी नहीं देंगे

कांग्रेस की रैली में तो साड़ी और पैसे लेने आई हूँ, वोट तो मैं सिर्फ मोदी को ही दूँगी .



कांग्रेस की रैली में तो साड़ी और पैसे लेने आई हूँ, वोट तो मैं सिर्फ मोदी को ही दूँगी

आज के दौर की जनता बहुत समझदार हो गयी है लग रहा है कांग्रेस को पूरी तरीके से भिखारी बनाने पर उतार आई है, तभी तो कांग्रेस में राहुल गांधी की रैली में भीड़ जुटाने एके लिए लोगों को 100 रुपये से लेकर 500 रुपये तक की रकम बांटी जा रही है महिलाओं को मिक्सी और साड़ियाँ बांटी जा रही हैं, वोटर्स को तरह तरह के प्रलोभन दिये जा रहे हैं,

और वंही दूसरी तरफ मोदी जी की हर एक रैली में लाखों लोगों की भीड़ आती है, फिर चाहे कर्नाटक की रैली हो या त्रिपुरा मेघालय या नागालैंड की रैली हो, इससे ये साफ पता चलता है की मोदी का जादू अभी भी चल रहा है,

आज हम आपको दो विडियो ऐसे दिखाने जा रहे हैं जिसमे महिलाए कांग्रेस की रैली में आई है कांग्रेस का झण्डा कांग्रेस की टोपी लगाए हुये हैं लेकिन जब किसी ने उनसे पूछा तो बोली "वोट तो मैं मोदी को ही दूँगी कांग्रेस की रैली में सिर्फ साड़ी लेने आई हूँ





ये 21वीं सदी का वोटर का है दलाल पार्टियों, ये 100 की पत्ती और 60 रुपये की दारू की बोतल के लिए अपना जमीर बेचने वालों मे से नहीं है आज का वोटर जान चुका है  कौन उसका भला करेगा और कौन उसे और उसके उसके बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करेगा, लेकिन फिर भी कुछ लोग अभी है जो दारू और 100 की पत्ती पर बिक जाते हैं लेकिन दिन ब दिन ऐसे लोगों की संख्या कम होती जा रही है

दैनिक अपडेट टीम सिर्फ हिन्दुवों और हिन्दुत्व के लिए काम करने वाली संस्था है, जिसको आगे बढ़ाने के लिए दैनिक अपडेट टीम को आर्थिक मदद की जरूरत है कृपया इसमे योगदान करके हमे आर्थिक रूप से मजबूत करने का प्रयास करें ताकि हम बिना किसी आर्थिक दबाव के हिन्दुत्व का काम ऐसे ही कर सके जय श्री राम .

शर्म आती है ऐसे यादवों पर जो कह रहे हैं हरा लाल लहराया है भगवा को गिराया है


आज बीजेपी उत्तर प्रदेश के दो लोकसभा उपचुनाव हार गयी है, और ये दोनों ही सीटे बीजेपी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण थी, क्योंकि गोरखपुर सीट पर पिछले 40 साल से बीजेपी ही जीत रही थी और पिछले 5 बार से योगी आदित्यनाथ ही गोरखपुर से सांसद बन रहे थे,

और वंही दूसरी सीट उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या की थी जिस पर एसपी का प्रत्याशी जीता है, बीजेपी 2014 में पहली बार उस सीट पर जीती थी इससे पहले वो सीट कांग्रेस के पास थी और अगर बात करे पुरानी तो कभी जावर लाल नेहरू उस सीट से जीतकर प्रधानमंत्री बने थे,

दो जातिवाद की राजनीति करने वाले कट्टर दुश्मन एक हुये जनता की वोटों का सौदा किया और जीत दर्ज की बीजेपी का 95% वोटर वोट डालने गया ही नहीं, खुद बीजेपी के कार्यकर्ता तक इस उपचुनाव को लेकर उदासीन थे,

समस्या ये नहीं है की वनहा पर एसपी का प्रात्याशी जीता है समस्या ये है की आज फिर जनता ने जातिवाद और धर्म की राजनीति करने वालों को चुना जनता ने विकास की राजनीति राष्ट्रवाद की राजनीति चुनने से इंकार कर दिया।

दैनिक अपडेट टीम सिर्फ हिन्दुवों और हिन्दुत्व के लिए काम करने वाली संस्था है, जिसको आगे बढ़ाने के लिए दैनिक अपडेट टीम को आर्थिक मदद की जरूरत है कृपया इसमे योगदान करके हमे आर्थिक रूप से मजबूत करने का प्रयास करें ताकि हम बिना किसी आर्थिक दबाव के हिन्दुत्व का काम ऐसे ही कर सके जय श्री राम . और आज यादव मुस्लिमों के साथ मिलकर हर जगह ये चिल्ला रहे हैं  "हरा लाल लहराया है भगवा को गिराया है"  आज श्रीक़ृष्ण का वंशज कहे जाने वाले इन यादवों ने पूरे हिन्दू समाज को कलंकित कर दिया, ये भूल गए की श्रीकृष्ण जी भी भ्गवाधारी थे न की हरा धारण करने वाले , सच में लानत है इन यादवों पर जो मुसलमानों के साथ मिलकर भगवा का अपमान कर रहे हैं, जय भगवा जय श्रीराम